पृष्ठ

7 फ़रवरी 2011

सरस्वती पूजा


विद्या की देवी 'माँ सरस्वती' का पूजन इस वर्ष आज के दिन होने जा रहा है। बचपन में ये 'पूजनोत्सव' धूम-धाम से मनाते थे। सप्ताह पूर्व ही सारी तैयारियां शुरू हो जाती थी। अपने निर्देशन में कुम्हार से मूर्ती बनवाने का जूनून, फिर काकी-भौजी से 'माँ शारदे' के लिए नयी एवं सुन्दर साड़ियाँ लाना , दरवाजे के आगे , दूर-दूर तक घास-फूस की सफाई करना , प्रसाद का मेनू तैयार करना और अंत में विसर्जन के पश्चात 'लराई-भोज' करना। आह, बड़े मनभावन दिन थे वो भी। अब तो मात्र औपचारिकता ही रह गई है। 

41 टिप्‍पणियां:

  1. समय बदल रहा है, अपनी परंपराओं को याद करना अच्छा लगता है।
    शुभकामनायें बसंत पंचमी की।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात सञ्जय जी,

    पहले ... लोग पूजा करते थे.
    अब ... ब्लॉग पूजा करते हैं.
    ठीक ही तो है .......... ब्लॉग में भी वही लोग पूजा कर पाते हैं जो कभी पूजा में शामिल रहे थे.
    ......... बरी अच्छी पोस्ट है सञ्जय जी.

    प्रणाम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही बात कही है, पर औपचारिकता के नाते ही सही, कम से कम हमारी आने वाली पीढी को परंपराएं तो विदित हो ही जाती हैं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!

    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बसंत पंचमी पर आपको अशेष शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. @aap sum koun...aap hi aur koun ......

    @guruji...agar mandir banye hain to pooja jaroori hai.....

    @tau rampuriaji......khoshish hi ki hai.....

    @smshindibysonu....dhanywad...subh:kamnaye....

    @ali_sa......sukriya evam subh:kamnaye

    @ahsas ki parten-sameeksha....sukriya apko bhi..

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रिय बंधुवर संजय झा जी
    नमस्कार एवम् स्वागत !

    बहुत बधाई है … हिंदी टाइप मैं भी नहीं जानता … प्रयास करते रहें , सुधार होता जाएगा … :)

    हां, अपनी हिंदी भाषा में और सुधार के लिए मां सरस्वती को मनाएं-ध्याएं !

    बसंत पंचमी सहित बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच कहा...

    कल विसर्जन में देखा लड़के शराब पीकर मुन्नी बदनाम हुई के धुन पर माता की प्रतिमा विसर्जन के लिए जा रहे थे...

    उत्तर देंहटाएं
  9. औपचारिकता कैसी आप जहाँ हैं, वही परम्परानुसार मनायें, जितना सम्भव है....इस प्रका्र दूसरे लोग भी आपकी परम्परा जानेगे।

    उत्तर देंहटाएं
  10. .

    ॐ श्री सरस्वताये नमः ।


    जगत जननी शारदे , करूँ में तेरी वंदना ...

    .

    उत्तर देंहटाएं
  11. .

    सबसे पहले तो ब्लॉग शुरू करने की बधाई ! आज आप चुपके चुपके चौथे माले पर ( 4th post ) पहुँच गए और मुझे कानों कान खबर तक नहीं हुई । वाह ! क्या बात है !... मैं अपनी कच्छप चाल से इतने विलम्ब से यहाँ पहुंची ।

    Never mind !

    आपकी सातवीं follower बनकर अति हर्षित हूँ।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  12. .

    नया ब्लॉग खोला और सूचना भी नहीं दी , कोई पार्टी-शार्टी नहीं ? कोई जल-पान नहीं ? कोई लड्डू वगैरह भी नहीं ?
    वैसे मुझे अदरक की चाय पसंद है ।

    सज़ा मिलेगी आपको ।
    झेलिये मेरे उत्पात कों ।
    टिप्पणियों की बमबारी से बचाइए स्वयं कों ।


    .

    उत्तर देंहटाएं
  13. .

    आपका लेख एडिट करके नीचे लिख रही हूँ। उचित समझें तो इसे-

    ------

    विद्या की देवी 'माँ सरस्वती' का पूजन इस वर्ष आज के दिन होने जा रहा है। बचपन में ये 'पूजनोत्सव' धूम-धाम से मनाते थे। सप्ताह पूर्व ही सारी तैयारियां शुरू हो जाती थी। अपने निर्देशन में कुम्हार से मूर्ती बनवाने का जूनून, फिर काकी-भौजी से 'माँ शारदे' के लिए नयी एवं सुन्दर साड़ियाँ लाना , दरवाजे के आगे , दूर-दूर तक घास-फूस की सफाई करना , प्रसाद का मेनू तैयार करना और अंत में विसर्जन के पश्चात 'लराई-भोज' करना। आह, बड़े मनभावन दिन थे वो भी। अब तो मात्र औपचारिकता ही रह गई है।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  14. .

    उचित समझें तो इसे अपने लेख के स्थान पर कट पेस्ट कर दें

    .

    उत्तर देंहटाएं
  15. .

    अंत में आपको ब्लॉग लेखन के लिए अशेष शुभकामनाएं ।

    फिर मिलूंगी शीघ्र ही ,
    दिव्या

    .

    उत्तर देंहटाएं
  16. .

    सातवीं follower के सात कमेंट्स । एक शुभ संख्या ।

    गुस्ताखी माफ़ !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  17. निश्चित ही परम्पाराओं को जिंदा रखने की आवश्यक्ता है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति... ..
    कभी समय मिले तोhttp://shiva12877.blogspot.com ब्लॉग पर भी अपने एक नज़र डालें . धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. माँ शारदा से वंदना करता हूँ कि संजय को, टिप्पणिया रोमन की जगह हिंदी में करने की समझ जल्दी प्रदान करे ! :-)
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  21. ई तो बहुत ग़लत बात है भाई जी! आप उवाचने भी लगे अऊर हमको बतएबो नहीं किए... चलिये हम गुसियाए हुए हैं!! सफलता का आशीस देते हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. कांग्रेसी नेता इस बात का जी तोड़ प्रयत्न कर रहे हैं कि किसी प्रकार से सत्ताधारी परिवार (दल नही परिवार) की छवि गरीबों के हितैषी के रूप मे सामने आए, इसके लिए वो छल छद्म प्रपंच इत्यादि का सहारा लेने से भी नही चूकते। इसकी जोरदार मिसाल आपको नीचे के चित्र मे मिल जाएगी
    \
    http://bharathindu.blogspot.com/2011/03/blog-post.html#comments

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति... ..
    बहुत सारी शुभ कामनाएं आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत दिन से कुछ नहीं लिख रहे हो यह गलत बात है ....
    शुभकामनायें संजय !!

    उत्तर देंहटाएं
  25. प्रभु,
    स्थिरता त्यागिये और चलायमान होईये। अब तो कमेंट्स भी हिंदी में लिख रहे हैं आप।
    शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  26. @ संजय बाबू ! आपकी दृष्टि बहुत दूर तक देखती है महाभारत के युद्धकाल से ही , आज भी आगे तलक देख रहे हो ?
    अरे देखना ही है तो उसे देखो जो इस नकाब के पीछे है और तब आपको पता चल जायेगा कि होली के बाद दिवाली मनाई जायेगी .
    हा हा हा sss
    हा हा हा हा ssss

    @ @ @ आपको उस देवी का आशीर्वाद मिल गया है जो सफलता के सोपान पर नहीं बल्कि शिखर पर है .
    इतने कमेन्ट उन्होंने आज तक 'उसे' भी न दिए , लेकिन आपको दिए और आपके दिल का दिया रौशन कर दिया .
    बड़े नसीबों वाले हैं आप ,
    ऐसा समझना .
    मुबारक हो .

    उत्तर देंहटाएं
  27. बनी रहे मां सरस्‍वती की कृपा.

    उत्तर देंहटाएं
  28. होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं। ईश्वर से यही कामना है कि यह पर्व आपके मन के अवगुणों को जला कर भस्म कर जाए और आपके जीवन में खुशियों के रंग बिखराए।
    आइए इस शुभ अवसर पर वृक्षों को असामयिक मौत से बचाएं तथा अनजाने में होने वाले पाप से लोगों को अवगत कराएं।

    उत्तर देंहटाएं
  29. आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं । ठाकुरजी श्रीराधामुकुंदबिहारी आप सभी के जीवन में अपनी कृपा का रंग हमेशा बरसाते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. होली के पावन रंगमय पर्व पर आपको और सभी ब्लोगर जन को हार्दिक
    शुभ कामनाएँ.
    कृपया 'मनसा वाचा कर्मणा' को न भूलें,'ऐसी वाणी बोलिए'पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  31. रंग के त्यौहार में
    सभी रंगों की हो भरमार
    ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार
    यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार।

    आपको और आपके परिवार को होली की खुब सारी शुभकामनाये इसी दुआ के साथ आपके व आपके परिवार के साथ सभी के लिए सुखदायक, मंगलकारी व आन्नददायक हो। आपकी सारी इच्छाएं पूर्ण हो व सपनों को साकार करें। आप जिस भी क्षेत्र में कदम बढ़ाएं, सफलता आपके कदम चूम......

    होली की खुब सारी शुभकामनाये........

    सुगना फाऊंडेशन-मेघ्लासिया जोधपुर,"एक्टिवे लाइफ"और"आज का आगरा" बलोग की ओर से होली की खुब सारी हार्दिक शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  32. नया कुछ डालें ....
    अपने लेखन की शुरुआत करें अब .....

    उत्तर देंहटाएं
  33. संजय,

    क्षमा करें मुझे ज्ञात ही न हो सका आपने इस शारदावंदन से प्रारंभ कर दिया है।

    हमें भी इसमें शामिल समझें।

    उत्तर देंहटाएं

सभ्य भाषा में आपकी कोई भी प्रितिक्रिया हमें अच्छी लगेगी.....